Monday, September 27, 2021

Corona होने पर स्वाद और खूशबू के चले जाने की क्या है वजह ? यहां जानें विस्तार में।

भारत में कोरोना के मामले काफी बढ़ रहे है। ऐसे में कोरोना के लक्षण में स्वाद और खूशबू चले जाने की समस्या आती है। आज के पोस्ट के माध्यम से जानेंगे की स्वाद और खूशबू चले जाने क्या वजह है।

Advertisement




कोरोना का प्रकोप भारत काफी तेजी से फैलता जा रहा है। हर रोज महाराष्ट्र दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब जैसे राज्यों से रिकॉर्ड तोड़ मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में लोग सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस के लक्षण पर भी काफी बातें कर रहे हैं।

हलाकि हम सभी जानते हैं कि वायरस के अहम लक्षणों में शामिल है स्वाद और खुशबू का चला जाना। आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि आखिर क्यों कोरोना वायरस संक्रमण होने पर हम स्वाद चखने और सुनने की क्षमता को खो बैठते हैं। इस पोस्ट के माध्यम से जानते हैं कि कोरोना वायरस किस तरह से आपको स्वाद लेने और खुशबू लेने की प्रबलताओ पर असर डालता है।

आपको बता दें कि स्वाद का सीधा कनेक्शन स्मेल यानि खुशबू से होता है खुशबू न आने की वजह से ही स्वाद पर इसका असर पड़ता है। दरअसल इन्फेक्शन के वक्त वायरस नाक के मेम्ब्रेन में गंध लेने वाली कोशिकाओं को खत्म कर देता है। वैसे आम तौर पर ये फिर से पैदा हो जाती है लेकिन कई मरीजों में सूंघने की समस्या लंबे समय तक बनी रहती है।

कई डॉक्टर्स का मानना है कि सूंघने की क्षमता में 10 फीसदी तक की कमी जारी रहती है और कोरोना से संक्रमण के बाद सूंघने की क्षमता में बदलाव होता है। एक रिपोर्ट में बताया गया है कि गंध में गड़बड़ी का पता लगाना आसान नहीं है। हर खुशबू सुगंध के अलग अलग मॉलीक्यूल से पैदा होती है और हर मॉलिक्यूल के लिए खास रिसेप्टर जरूरी होता है।

जब कोरोना वायरस की वजह से सूँघने वाले सेल डैमेज हो जाते हैं तो सुगंध वाले मॉलीक्यूल को कार्य नहीं मिलता और इस तरह दिमाग गंध के बारे में पता नहीं लगा पाता। ऐसे में आपको किसी में भी खुशबू नहीं आती। इसके अलावा नॉर्मल बुखार या होने पर भी खुशबू या स्वाद चला जाता है। कॉमन बुखार में 60 फीसदी लोगों की सूंघने की क्षमता कम हो जाती है लेकिन तेज गंध वाली चीजों की खुशबू में ये आसानी से हो जाता है।

हालांकि कोरोना में ऐसा बिल्कुल नहीं है और कोरोना होने पर संक्रमित व्यक्ति को बिल्कुल भी स्वाद नहीं आता। गंध चले जाने पर उसके सामने चाहे जितनी तेज गंध वाली चीजें रख दी जाएं उसे कोई फर्क नहीं पड़ता। ये आम तौर पर कोविड के शुरुआती लक्षण हैं। इस पोस्ट पर आपकी क्या प्रतिक्रिया है। कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताइए। साथ ही देशों और दुनिया की तमाम बड़ी खबरों के लिए हमारे इंडिया नेटवर्क न्यूज़ डॉट कॉम से जुड़े रहे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles